अल्फा कण प्रकीर्णन का रदरफोर्ड सिद्धान्त (Rutherford's Principle Of Alpha 'α' Particles Scattering) Physics || Rutherford's Principle Of α - Particles Scattering Physics || Ratherford Ka Alpha Kan Prakirnan Ka Sidhant Physics || Alpha Kan Parkirnan Ka Rathrford Sidhant Physics || Physics Solution || Ncert Solution

अल्फा कण प्रकीर्णन का रदरफोर्ड सिद्धान्त (Rutherford's Principle Of Alpha 'α' Particles Scattering) Physics || Rutherford's Principle Of α - Particles Scattering Physics || Ratherford Ka Alpha Kan Prakirnan Ka Sidhant Physics || Alpha Kan Parkirnan Ka Rathrford Sidhant Physics || Physics Solution || Ncert Solution



अल्फा कण प्रकीर्णन का रदरफोर्ड सिद्धान्त
(Rutherford's Principle Of Alpha 'α' Particles Scattering)

अल्फा कण प्रकीर्णन का रदरफोर्ड सिद्धान्त :-

               अल्फा कण प्रकीर्णन का रदरफोर्ड सिद्धान्त:- धातु की पतली पर्णिकाओं के द्वारा α कणों के प्रकीर्णन के अध्ययन से रदरफोर्ड द्वारा परमाण्वीय नाभिक की खोज की गई।

                रदरफोर्ड के अनुसार α कणों का प्रकीर्णन α कणों के धन आवेश तथा अति मूल्य व्यास के नाभिक में केन्द्रित धन आवेश के बीच की अन्योन्य क्रियाओं के तुल्य होती है। धातु की पतली पर्णिकाओं के द्वारा α कणों से प्रकीर्णन की व्याख्या करने के लिये रदरफोर्ड ने परमाणु को निम्नलिखित अभिग्रहितों के साथ प्रस्तुत किया :-

1. परमाणु का सम्पूर्ण धन आवेश उसके केन्द पर केन्द्रित होता है, जिसे नाभिक कहते है।

2. नाभिक तथा α कण बिन्दु मात्र होते है या उनकी साईज नगण्य होती है।

3. α कणों की तुलना में नाभिक बहुत भारी होता है। अन्योन्य क्रिया के समय नाभिक गति नहीं करता है।



4. प्रकीर्णन केवल α कण एवं नाभिक के मध्य अन्योन्य क्रिया के कारण होता है। परमाणु में उपस्थित ऋण आवेशित इलेक्ट्रोनों का प्रभाव नगण्य होता है।